ਜ਼ਿਲ੍ਹਾ ਫ਼ਾਜ਼ਿਲਕਾਮਾਲਵਾ

दशकों से सेम की मार झेल रहे हैं विधान सभा हल्का बलुआना के किसान

पंजाब सरकार ने आज तक नहीं किए कोई मुआवजे के प्रबंध और सेम खत्म करने के कोई कारगर उपाय: पम्मी सिंह परमजीत

फाजिल्का/ बलुआना, 22 सतंबर (प्रताप सिंह) जिस किसान के पास पांच एकड़ जमीन हो ,वह भी दशकों से सेम की मार झेल रही हो और खाने को एक भी दाना पैदा न होता हो तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि उस परिवार की हालत कितनी दयनीय होगी। यह कहानी है फाजिल्का जिला के विधान सभा हल्का बलुआना के गांव सैयद वाला की, जहां सेम ने पूरे गांव को ही प्रभावित किया हुआ है। यहा तक के धरती के नीचे का पानी भी पीने योग नहीं है।

भारती जनता पार्टी के वरिष्ट नेता पम्मी सिंह परमजीत ने बताया कि गांव के दोनों तरफ से गुजर रहे सेम नालों की वजह से मची तबाही के मंजर संव्य ही अपनी कहानी बयां करते हैं। उन्हों ने बताया के कई घर गिर चुके, कई रहने लायक नहीं रहे, कईयों को कर्ज लेकर दुबारा मकान बनाने पड़े हैं। पूरे क्षेत्र को ही आज तक सेम से और बाड़ से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा पंजाब सरकार ने नहीं दिया। इसके लिए किसानों ने कई दिनों तक सीतो गुन्नो डबवाली रोड पर धरना भी दिया।

उन्हों ने कहा के इस बार लगातार तीन दिन हुई बारिश से बागों और नरमा की फसल का काफी नुकसान हुआ है, लेकिन पंजाब सरकार ने अभी तक किसानों को कोई राहत नहीं दी। देती भी कैसे वोह तो मशरूफ है कुर्सी की अदला बदली में। उन्हों ने कहा सरकार को किसानों का दर्द समझना चाहिए और बताना चाहिए कि मुआवजे और सेम के लिए वह क्या कर रहे हैं। यहां के किसानों को विशेष राहत पैकेज मिलना चाहिए, जनता का सेवक होने के नाते इसके लिए मैं पंजाब की कांग्रेस सरकार को बिनती करता हूं।

इसके अलावा अलग अलग गांवों में परिवारों को मिलकर उनके पारिवारिक सदस्य के स्वर्ग सिधार जाने पर दुख सांझा किया गया। पम्मी सिंह ने नौजवान पीढ़ी के साथ बैठकर उनके अच्छे भविष्य निर्माण के बारे में और हल्का के सम्पूर्ण विकास के बारे चिंतन-मंथन भी किया।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button